किसानों और सरकार को एक सप्ताह में सड़क खाली कराने की दी चेतावनी

कुंडली/सोनीपत। कुंडली बॉर्डर पर किसान आंदोलन के कारण बंद नेशनल हाईवे-44 को एक तरफ से खोलने की मांग को लेकर रविवार को सेरसा में पंचायत की गई। इसमें आसपास के गांवों के लोग शामिल हुए और वहां ग्रामीण उग्र दिखाई दिए। पंचायत में ग्रामीणों ने किसानों व सरकार को सड़क खाली कराने को एक सप्ताह का अल्टीमेटम दिया है। इस तरह अल्टीमेटम दिए जाने से किसानों व ग्रामीणों में टकराव की आशंका बढ़ गई हैं।
वहीं किसान नेताओं ने टकराव कराने के लिए इसे सरकार का घड्यंत्र बताया है। रविवार को जांटी रोड पर गांव सेरसा में पंचायत कर ग्रामीणों ने किसानों व सरकार को एक सप्ताह का अल्टीमेटम दिया है। उन्होंने साफ कहा कि सप्ताह के अंदर कुंडली बॉर्डर पर दिल्ली आवागमन के लिए एक तरफ का रास्ता नहीं खोला तो वह इससे बड़ी महापंचायत दिल्ली में करेंगे। इसमें हरियाणा व दिल्ली के करीब 30 गांबों के ग्रामीण शामिल होंगे और उसमें कोई बड़ा फैसला लिया जाएगा। पंचायत में ग्रामीणों ने कहा कि किसानों के धरने को 7 माह पूरे होने वाले हैं। नेशनल हाईवे-44 से दिल्ली में आवागमन बंद होने से आसपास के गांवों के ग्रामीण कई बार किसानों से एक तरफ का रास्ता खोलने की मांग कर चुके हैं। जब कोई हल नहीं निकला तो ग्रामीणों ने रविवार को गांवि सेरसा में राष्ट्रवादी एकता मंच के बैनर तले पंचायत बुलाई। इसमें कंडली क्षेत्र के साथ ही दिल्ली के गांवों से भी ग्रामीण शामिल हुए। पंचायत में रामफल सरोहा ने कहा कि उनका किसानों के साथ कोई मनमुटाव नहीं है, लेकिन 7 माह से उनके रास्ते बंद हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *