नई शिक्षा नीति कैसे होगी सफल जानिए कैसे ?

चंडीगढ़ा। हरियाणा में नई शिक्षा नीति को सिरे चढ़ाना इतना आसान नहीं है। शीक्षणिक ढांचे में बदलाव के साथ ही शिक्षकों की कमी दूर करना बड़ी चुनौती है। स्कूल शिक्षा विभाग में शिक्षकों के हजारों पद खाली होने के साथ ही प्रदेश के 60 फीसदी कालेजों में प्रंसिप ही है हालात यह हैं कि मुख्यंत्री के जिले के 10 कालेजों मं से 8 में प्रिसिपल नहीं हैं।

इसका खुलासा उच्चतर शिक्षा

विभाग से आरटीआई के जरिये ली गई जानकारी से हुआ है। उधर, मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने स्पष्ट किया है कि खाली पदों को नियमानुसार जल्दी भरेंगे। पदोन्नति प्रक्रिया से प्रिसिपल की नियुक्ति की जाएगी। नए पद स्वीकृत करने का मामला भी विच्चाराधीन है। प्रदेश के कुल 172 राजकीय कालेजों में से 104 में प्रिंसिपल के पद खाली हैं। आरटीआई कार्यकर्ता दीपांश बंस्ल ने विभाग से आरटी आई के जरिये इस संब्ंध में जानकारी मांगी थी। विभाग ने दीपांशु को बताया है कि प्रदेश के कुल 172 कालनजां मे मे 1 5 में हीप्रमिपते पद स्वीकृत हैं। 15 कालेज ऐसे हैं। जहां प्रिंसिपलन का पद ही नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *